हँस-हँस कर रोज सपनों में आती 
रुला कर मुझको न जाने कहाँ चली जाती..
जब भी आतीबातें बनाती.
न जाने वो कौन थी ?

जब भी आतीरुला कर जाती|
बड़े भावुक होकर खड़ी-खोटी सुनाती.

कोई तो समझाओ इस निर्दयी समाज को.
बेटे की हठ लगाये.
दिन-दहाड़े करते कन्या हत्या.
कोई तो बताओकोई तो समझाओ.

आज की कन्या नहीं किसी से पीछे.
हथियार थामे करती सरहद पर रक्षा.

पी.टी. उषासानिया मिर्ज़ा या हो साइना नेहवाल.
सभी ने बढ़ाया भारत का सम्मान.
प्रतिभा पाटिल ने भी थामी थीभारत की कमान,
इसके आगे और क्या कहना ?

हर घर में पैदा होऊँगी.
कहलाऊँगी जगत जननी.
मै माँ हूँबेटी हूँबहन हूँ,
फिर भी शर्म नहीं आती, करते हो कन्या हत्या,

हँस-हँस कर रोज सपनों में आती थी,
रुला कर मुझको न जाने कहाँ चली जाती थी,
जब भी आतीरुला कर जाती|


दीपक यादव
मधेपुरा,बिहार
मो-7549494954
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें