अंधकार! प्रकाश के अभाव का नाम है।
अंधकार! मनुष्य के विवेक का विराम है।।

अंधकार! रावण है, राम के विरुद्ध है।
अंधकार! कंस है जो कृष्ण पर क्रुद्ध है।।

अंधकार! दृश्य को छिपाने का उपाय है।
अंधकार! दीपकों के आगे असहाय है।।

अंधकार! जागे को सुलाने का एक मंत्र है।
अंधकार! स्वप्न को दिखलाने का षड्यंत्र है।।

अंधकार! प्रेम पर वासना का वार है।
अंधकार! अनैतिक रति की एक पुकार है।।

अंधकार! कल्पनाओं की अंधी उड़ान है।
अंधकार! औरों की निंदा को 'मचान' है।।

अंधकार! रूप-रंग-जातियों का भेद है।
अंधकार! पुस्तकों में लिखा हुआ वेद है।।

अंधकार! भ्रान्तियों के लिए निमंत्रण है।
अंधकार! आत्मा पर मन का नियंत्रण है।।

अंधकार! सत्य पर सुवर्णमय आवरण है।
अंधकार! जीवन नहीं, वह तो मरण है।।

अंधकार! सुई की जगह, तलवार है।
अंधकार है, इसलिए, कि अंधकार है।।

- अमन कुमार, मधेपुरा
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें