घड़ी की सुई
नहीं थम रही.
वक़्त गुजर रहा
और हम हैं खड़े
वहीं.

जिंदगी की घड़ी
हैं बहुत ही छोटी,
और रुक सकती हैं
कभी भी .

हमारा रुकना तो
नहीं हैं जिंदगी.

आओ कुछ ऐसा करें
हम  ....
कि मौत के बाद भी
लोग रखें याद हमें.
.
और चलती रहे
मौत के बाद भी
जिंदगी.


राकेश सिंह (मधेपुरा, बिहार, इंडिया)

0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें