ज्यादा  सोच
इंसान को बना

देती है कमजोर
पर सच तो यह है कि

सोच पर किसका जोर
ये तो आईना है

आपके व्यक्तित्व का
ये बताती आप है

कितने परिपक्व
ये बदलती  है

परिस्थिति अनुसार
परिस्थिति हो जैसी

बन जाती वैसी
सोचने से क्या होता है

जो होना है वो तो होता  ही है
ज्यादा ना सोचे  जो  करना है करे

आप अपने आप पर
और अपने कर्म पर

विश्वास करे आगे बढ़े
फिर देखे आप

जो चाहते थे
वही हो  रहा है



गरिमा
1 Response
  1. सुंदर सोच कि करने से ही होता है वह कुछ जो हमें चाहिये।


टिप्पणी पोस्ट करें