अरे जमाना जान लो तुम
अब मुझे पहचान लो तुम
मैं कटी पतंग नहीं
जो आसमां को
छू न पाऊं
मैं छोटी तरंग नहीं
जो किनारे तक भी
पहुँच न पाऊं
बनाऊं पहचान अपनी
यही सोच कर चल पड़ी हूँ
हर दुर्गम पथ तय करने
नारी हूँ मैं निकल पड़ी हूँ.
हां, नारी हूँ
निकल पड़ी हूँ.
(गुंजन की इस रचना को यूट्यूब पर सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें)


गुंजन
पार्वती सायंस कॉलेज, मधेपुरा.
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें