तेज रफ्तारी लोगों की
सही-सही शिनाख्त करना
जुनून में उतरकर
व्यवस्था की नीयत उघाड़ देना
आम को खास और
खास को आम में
तब्दील करना
दम घोंटू व्यवस्था में
खुले अंदाज से
विचरना
यदि क्रांति है
तो हां
मैं क्रांतिकारी हूं.


डॉ सुधा उपाध्याय, 
नई दिल्ली
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें