गुजर गए अपनों की 
स्मृतियों को याद करके 
सोचता हूँ ,कितना सूनापन है 
उनके बिना 

घर की उनकी संजोई 
हर चीज को जब छूता हूँ 
तब उनके जीवंतता का 
अहसास होने लगता 
डबडबाई आँखों /भरे मन से 
एलबम के पन्ने उलटता 
तब जीवन में उनके 
संग होने का आभास होता है 

उनकी बात निकलने पर 
अच्छाई याँ मानस पटल पर 
स्मृतियों में उर्जा भरने लगती है 

कहते है स्मृतियाँ अमर है 
लेकिन यादों की उर्जा पर 
इसलिए कहा गया है कि 
करोगें याद तो हर बात 
याद आएगी.


संजय वर्मा "दृष्टि "
125 शहीद भगत सिंग मार्ग 
मनावर जिला -धार (मप्र)
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें