आओ-आओ पेड़ लगाएँ...
आओ पेड़ लगाएँ हम.....।
सूखी-बंजर हो रही धरती,
हरियाली को लाएँ हम....।
खत्म हो गये..पेड़ जो सारे..
तो सोचो जरा क्या होगा...?
सांसें हमारी रुक जाएगी....
हमें हवा कहाँ से मिलेगा.....?
आओ-आओ पेड़ लगाएँ.....
जीवन अपना बचाएँ हम.....।
नहीं मिलेगी हमे छाँव घनेरी..
गर्मी के जलते मौसम में......।
जिएँगे कैसे हम मरुभूमि  में...
करो कल्पना जरा अपने मन में..।
आओ-आओ पेड़ लगाएँ........
अपनी धरा बचाएँ हम.........।
रूठ  गयी   जो   वर्षा रानी..
तो  खेती  होगी  कैसे  ......?
खत्म जो होगा  भू-जल स्तर...
हम पियेंगे पानी कैसे........?
आओ-आओ पेड़ लगाएँ......
भोजन अपना  बचाएँ हम.....।।
सूखी-बंजर हो रही धरती....
हरियाली को लाएँ हम ।।



रचना भारतीय, मधेपुरा
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें