क्षीण हुई है नैतिकता,  
घायल है अब सात्विकता |
कारण है हर दोषों की, 
 बिगड़ी हुई मानसिकता |

दर -दर पर नष्ट हुई है,  
पली बढ़ी ये मौलिकता |
मन माफ़िक आजादी से, 
 बोझिल हुई ये आधुनिकता |

मातृ संपदा बिलख रही,  
दूजे दर वो भटक रही |
श्रवण मिला दो कोई मुझे,  
कह-कहकर वो सिसक रही |

पशुओं सम हर कर्म किए, 
 पशुता के इन लायकों को,
कैसे मिल गई,  
मनुज की यह नागरिकता   |

नियमों से नही बात बनेगी, 
जब तक बौनी है मानुषता |
रिश्ते-नाते हुए कलंकित, 
दोषी है ये विकृत मानसिकता |

अपनी बेटी अपना बेटा,
उसकी बेटी उसका बेटा |
हर जन-जन के प्रति 
रखनी होगी स्वस्थ मानसिकता|

आधारशिला  रख उस  परिवर्तन की  ,
जिसमें सजती हो गांधी वाली  मानसिकता |

चकाचौंधिली और रंग-बिरंगी इस दुनिया में ,
समझ लो यारों, सच्ची है अपनी भारतीयता |



 आनंद मूर्ति,
बिलासपुर,छत्तीसगढ़.
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें