स्कूल की  जब होती छुट्टी
ऐसा लगता मानों बगीचे में उड़ रही हो
रंग -बिरंगी तितलियाँ ।
तुतलाहट भरी मीठी बोली से
पुकारती अपने पापा को
पापा ...
इतनी सारी नन्ही रंग -बिरंगी तितलियों में
ढूँढने लग जाती पिता की आंखे ।
मिलने पर उठा लेते मुझकों वे गोद में
तब ऐसा महसूस होता है
मानो दुनिया जीत ली हो
इस तरह रोज जीत लेते है मेरे पापा दुनिया ।
मेरी हर जिद को पूरी करते है पापा
मै जिद्दी भी इतनी नहीं हूँ 
किन्तु जब मै रोती हूँ तो
पापा की आंखे रोती है 
सच कहूँ ,यदि मै नहीं होती तो
मेरे पापा क्या जी पाते मेरे बिना
सोचती हूँ बेटियाँ नहीं होती तो
उनके पापा कैसे जीते होंगे ?
बेटी के बिना ।


संजय वर्मा "दृष्टि "
125 ,शहीद भगत सिंग मार्ग
मनावर जिला - धार (म प्र )  
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें