सृष्टि में सबसे सुन्दर है
ममतामयी माँ का नाम
नर-मुनि-देव सदा करते हैं
माँ की महिमा का गुणगान.

साक्षात् देवी है करूणा की वह
ममता की अनुपम मूरत
धरती-धाम पर सबसे सुन्दर है
चाँद-सी जिसकी सुन्दर मूरत
सरिताओं की कल-कल ध्वनि है
ममतामयी माँ का गुणबान
सृष्टि में सबसे सुन्दर है
ममतामयी माँ का नाम.

मृदुल हास है ममतामयी के
कली सुमन वन उपवन के
माँ की हैं सुरभित साँसें
पुलकित पवन चन्दन वन के
विषम घड़ी में हमसब करते हैं
शक्तिदान माँ का आह्वान
सृष्टि में सबसे सुन्दर है
ममतामयी माँ का नाम.

संतान की खातिर सारी विपदा
हँसकर माँ सह लेती हैं
संतान सुख की चिंता सताती
सदा माँ को सांझ-विहान
सृष्टि में सबसे सुन्दर है
ममतामयी माँ का नाम.

कोई संतान निर्बल ना हो
प्रथम संस्कार वह देती हैं
ना रह जाए रिक्त ह्रदय-घट
असीम प्यार वह देती है
याचना है मोहन की यह
मिले माँ का दिव्य वरदान
सृष्टि में सबसे सुन्दर है
ममतामयी माँ का नाम.



मोहन प्रसाद
निदेशक
खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण निदेशालय
पटना
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें