लड़कियों को अपना कैरियर क्षेत्र चुनने में अक्सर ही परेशानी का सामना करना पड़ता है पर आज के बदलते समय में लड़कियां हर क्षेत्र में मजबूती के साथ दस्तक दे रही हैं. बदलते मधेपुरा में लड़कियां अब परंपरागत कैरियर क्षेत्र के साथ फैशन टेक्नोलॉजी से लेकर एयर हॉस्टेस तक में अपने को आजमा रही हैं.
      मधेपुरा की ही आकांक्षा प्रियदर्शिनी ने एयर हॉस्टेस बनने के लिए भारत के प्रसिद्ध संस्थान फ्रैंकफिन की गुडगाँव शाखा से जब एयर हॉस्टेस का कोर्स पूर्ण किया तो उसे लगा कि जिले के लिए अछूता माना जाने वाला ये क्षेत्र लड़कियों के लिए बेहद सुरक्षित है.
      लड़कियां चुनें इसे अपना कैरियर: आकांक्षा प्रियदर्शिनी के अनुसार भारत के अधिकाँश संस्थानों में लड़कियों की पर्सनैलिटी और एवरेज कम्यूनिकेशन के आधार पर एयर हॉस्टेस कोर्स के लिए एडमिशन आसानी से हो जाती है. फ्रैंकफिन जैसे संस्थानों की शाखाएं गुडगाँव, दिल्ली, भोपाल, रांची आदि जगहों पर हैं. एक साल के डिप्लोमा कोर्स के लिए करीब डेढ़ लाख रूपये संस्थान लेती है जिसमें सारे कोर्स मैटेरियल और ड्रेसेज उनकी तरफ से ही दिए जाते हैं. कोर्स के दौरान एविएशन, हॉस्पिटलैटी, ट्रैवेल मैनेजमेंट के साथ-साथ पर्सनैलिटी तथा कम्यूनिकेशन स्किल डेवलपमेंट पर भी ध्यान दिया जाता है.
      इस कोर्स की एक खास बात यह भी है कि इसको पूरा करने के बाद लड़कियां अपना कैरियर न सिर्फ जहाजों में एयर हॉस्टेस बल्कि होटल में फ्रंट ऑफिसेज और टूरिज्म सेक्टर में भी जॉब पाकर बना सकती है. शुरुआती दौर में ही 25-30 हजार रूपये प्रतिमाह की नौकरी आसानी से पाई जा सकती है. और कुल मिलाकर लड़कियों के लिए एयर हॉस्टेस का क्षेत्र है बिलकुल सुरक्षित.
(राकेश सिंह की रिपोर्ट)
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें