दामिनी दमकी और बो गई
अग्निबीज महज तेईस साल में
दिसंबर सोलह से उन्तीस,
2012 के मार्मिल अंतराल में
निशा के गहन अंधकूप में वह
जूझती रही अदम्य जीजीविषा से
नारी-मर्दन/यौन हिंसा/विकृत सोच के
खूनी जबड़ों के संजाल में
सो रहा था पूरा नपुंसक शासन
और निर्जीव समाज जब
ऊनी चादर ताने/खर्राटे भरता
मस्त मगन दोशाल में
जूझते-जूझते बर्बर दुराचारों
और विभेदकारी विचारों से
बुझ गई कंदील वह
जरायम के झंझावाती जंजाल में
और कुरेद दी हमारी सोई संवेदना
दायित्व बोध
ठीक लक्ष्मीबाई/भगत सिंह की मानिन्द
बेमिसाल/मिसाल में
दामिनी/माँ भर्ती की बेटी महान
व्यर्थ न जाएगा यह बलिदान
और फिर न भटकेंगे हम
तेरे-मेरे के तुच्छ भ्रमजाल में
तेरी शहादत/उद्दाम उर्जा
आदर्शों ने हमें जीना सिखाया
और प्रज्ज्वलित कर दी ज्योति नई
मानवता की बुझती मशाल में
दामिनी/अप्रितम ध्वजावाहक
तू साम्य की/नई सोच की
हम तेरी जीजीविषा को करते हैं सलाम
इस प्रात:काल में
अब न हो कहीं भी भ्रूण-हत्या
लिंग-भेद/बलात्संग किसी से
और जगमगा उठे तेरे
स्वप्नों की सुगंध/इस नए साल में..
(बलिया (उ०प्र०) की बहादुर बेटी दामिनी को विनम्र श्रद्धांजलि-स्वरुप)


-डॉ० रामलखन सिंह यादव
 अपर जिला जज-प्रथम
 मधेपुरा (बिहार)
 (लखनऊ, 31.12.2012)
1 Response
  1. आप मुझे मानव के रूप में देवता नजर आरहे है . जज होते हुए भी आप देश की सच्चाई बता रहे है। आप जैसे देव ही इस भारत की संस्कृति संस्कार बचा रहे है। जय हिन्द


टिप्पणी पोस्ट करें