डॉ. रमेश यादव, सहायक प्रोफ़ेसर
इन्दिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालयनई दिल्ली.-68
संपर्क : Cell 9999446868 


 

दंगा रूपये और डालर में जंग
'मैं' और 'मेरा' संसार ज़िंदाबाद,बाक़ी सब मुर्दाबाद  
भारत में लोकतंत्र के हकीकत की कहानी
आत्मबोध
भोगवाद का अमरबेल 
सिर्फ  तुम्हारे लिए
हासिल करने का षड्यंत्र
उनकी खुशी हमारा भ्रम
आज़ादी को गुलामी में करवट लेते देखा
मन कह रहा है उड़ चलें
अनोखा सबसे बड़ा लोकतंत्र 
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें