इतिहास से पढ़ाई की
और करता हूँ चाकरी
कविता की

करता हूँ चौका बर्तन
झाडू-बहारू
रोपता हूँ फूल-पत्तियां
लगाता हूँ उद्यान

सौंपता हूँ उसे दिल-दिमाग
शौर्य-पराक्रम
सपने सारे के सारे

करता हूँ इतना ज्यादा प्रेम
कि अक्सर सहमी,
सशंकित आँखों से
देखती है कविता मुझे
(चर्चित पुस्तक 'राजधानी में एक उजबेक लड़की' से )


-अरविन्द श्रीवास्तव, मधेपुरा
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें