**डॉ सुधा उपाध्याय, एसोसिएट प्रोफ़ेसर,
जानकी देवी मेमोरियल कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय.




रचनाएं: 
हां मैं क्रांतिकारी हूं
काश बरखा की बदरी कजरी बन जाऊं
एक सार्थक कविता
साथी सच बतलाना
आखिर कब ? 
पिंजरे की चिरिया
क्या आप जानते हैं ???
हर राम राज्य में
अज्ञेय को याद करते हुए
कोई तो है.. 
औरत की कहानी
मत लिखना चिट्ठी इस पते पर
बोलती चुप्पी.
कसबे की औरते ..
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें