रश्मि प्रभा
पटना





रचनाएं / प्रस्तुति 

अपमान से सम्मान का तेज बढ़ता है
एक बसंती हवा यह भी
मन पखेरू फिर उड़ चला ....
‘नारीविमर्श के अर्थ’ का निहितार्थ -३
‘नारी-विमर्श के अर्थ’ का निहितार्थ -2
'नारी-विमर्श के अर्थ’ का निहितार्थ
कन्या भ्रूण हत्या मजबूरी है !!!
कुछ ख़ास है - कुछ अजनबी मन से परे एहसास है (6)
कुछ ख़ास है - कुछ अजनबी मन से परे एहसास है (5)
बित्ते भर की थी सच की जमीन
कुछ ख़ास है - कुछ अजनबी मन से परे एहसास है (4)
कुछ ख़ास है - कुछ अजनबी मन से परे एहसास है (3)
कुछ ख़ास है - कुछ अजनबी मन से परे एहसास है (2)
कुछ ख़ास है - कुछ अजनबी मन से परे एहसास है (1 )
मनाएं सार्थक महिला दिवस
शब्दों का रिश्ता 
यूँ तार तार नहीं करते.
दामिनी - अरुणा .... कौन कौन !!! 
किसी के काम आयें - आइये संकल्प करें
जाओ यहाँ से...
अगर मगर..
0 Responses

टिप्पणी पोस्ट करें