लडकियों
तुमको सिर्फ परी कथाये ही
क्यों सुनाई जाती हैं
बचपन से
तुमको सिर्फ गुडिया/ चौके चूल्हे 
का सामान ही मिलता हैं
खिलौनों में
क्यों तुमको राजकुमारी सरीखा कहा जाता हैं
कहानियो में
क्यों सफ़ेद घोड़े पर सवार
राजकुमार आता हैं लेने
सपनो में
जबकि हकीक़त जानती हो तुम
जिन्दगी परी कथा सी नही होती
कोई सफ़ेद घोड़े वाला राजकुमार नही आता
कोई रानी बनाकर नही रखता अपने महल में
जिन्दगी सिर्फ गुडिया जैसे नही होती
समझौता खुद से सबसे पहले करना होता हैं
फिर लोगो के मुताबिक़ ढलना होता हैं
एक अजनबी से रिश्ता जोड़ कर
उनके घर से , परिवार से
रीती-रिवाजों से उनके अपने समाजों से
खुद को जोड़ना होता हैं
इसलिए बचपन से तुमको बहलाया जाता हैं
हाथ में बन्दूक की जगह बेलन पकडाया जाता हैं
भगत सिंह की जगह सिंड्रेला का सपना देखाया जाता हैं ...

 

नीलिमा शर्मा 
4 Responses
  1. वह बहुत सार्थक कविता |



  2. समझौता खुद से सबसे पहले करना होता हैं
    फिर लोगो के मुताबिक़ ढलना होता हैं
    यथार्थ या यूँ कहें समाज को आईना दिखलाती रचना ...
    उम्दा अभिव्यक्ति !!


  3. Neelima Says:

    शुक्रिया रश्मि जी मेरी कलम से निकले शब्दों को यहाँ शामिल करने के लिय


एक टिप्पणी भेजें