(पुलिस वाले भी भावुक होते हैं. दुःख के गीत दुःख के परिमार्जन में सहायक होते हैं.)


इस दिल पे रखके बोझ जिए जा रहा हूँ मैं
अपराध स्वयं किये जा रहा हूँ मैं..

जितनी थी आकांक्षा, मन में हुई वो ध्वस्त
विरक्त सा वियोग लिए जा रहा हूँ मैं..

मधु में नहीं शक्ति, अब मदहोश कर सके
गम का वो हलाहल, जो पिए जा रहा हूँ मैं..

अब आह भी न बोलेगा, ये बेजुबान दिल
इसलिए इन होठों को, सिये जा रहा हूँ मैं..

मन के दुखों की सैंकड़ों सौगात को लिए
कन्धों पे अपनी लाश, लिए जा रहा हूँ मैं..

है ताब यदि मेरी इस सच्ची आह में प्रभु
तो बोल कि अबतक क्यों जिए जा रहा हूँ मैं ???


हिमांशु शंकर त्रिवेदी
एएसपी, मधेपुरा

6 Responses
  1. aapki gazal padhkar meri ye aashankaa aur bhi majboot ho gyi ki....prashaashan ka hissa banne ke baad mujhe bhi kuchh aisa hi n likhna par jae...


  2. सार्थक
    सुंदर प्रस्तुति
    बधाई


  3. Aapka ye rachna sun kr mera dil v bhawuk ho utha...bahut sundar rachna.


  4. Bahut sundar rachna sir.Aaj pta chala ki savi shayar hote hain jinme se kuchh log likh pate hain aur kuchh bhul jate hain.Main v bhawuk ho utha aapke rachna se.


  5. Bahut sundar rachna sir.Aaj pta chala ki savi shayar hote hain jinme se kuchh log likh pate hain aur kuchh bhul jate hain.Main v bhawuk ho utha aapke rachna se.


  6. Bahut sundar rachna sir.Aaj pta chala ki savi shayar hote hain jinme se kuchh log likh pate hain aur kuchh bhul jate hain.Main v bhawuk ho utha aapke rachna se.


एक टिप्पणी भेजें